लोन कितने प्रकार के होते हैं?

यहाँ आपको हम बताएँगे की लोन कितने प्रकार के होते हैं? जैसा कि आप जानते हैं कि आज के समय हम सभी लोगों को अपने घर में सभी ऐसे काम आ जाते हैं जिसके लिए बैंक से या किसी भी फाइनेंसियल कंपनी से लोन लेना पड़ता है तभी जाकर हम अपने घर के उस काम को पूरा कर पाते हैं।

ऐसे में कई लोगों के मन में सवाल आता होगा कि लोन कितने प्रकार का होता है क्योंकि उनके कई प्रकार होते हैं और सभी की लोन लेने की योग्यता और उसके डॉक्यूमेंट की अलग-अलग होते हैं। अगर आप भी इस सवाल का जवाब देना चाहते हैं तो हमारे साथ आर्टिकल पर बने रहे हैं।

लोन कितने प्रकार के होते हैं?

लोन कितने प्रकार के होते हैं?

लोन दो प्रकार के होते हैं विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं।

  1. Unsecured Loan
  2. Secured Loan

#1. अनसेक्युरड़ बैंक लोन (Unsecured loan)

अनसिक्योर्ड एक लोन का मतलब होता है कि ऐसा लोन जो बैंक बिना किसी सुरक्षा के आपको प्रदान करता है। हालांकि इसकी ब्याज की दर काफी अधिक होती है। इस प्रकार लोन में अगर उधारकर्ता दिवालिया हो जाता है तो बैंक के पास पैसे वसूल करने के कोई तरीके नहीं होते हैं। 

यही वजह है कि इस प्रकार के लोन ऐसे लोगों को ही जाता है जिनका क्रेडिट स्कोर अच्छा हो और साथ में इनकम के स्रोत हो आंशिक वर लोन के अंतर्गत कई प्रकार के लोन आते हैं जिसका डिटेल हम आपको नीचे जगह आइए जानते हैं।

इसे भी पढ़िए : Loan Resources App से लोन कैसे लें

पर्सनल लोन

पर्सनल लोन का मतलब होता है कि हम अपने मेरी जरूरत को पूरा करने के लिए जो पैसा बैंक से लेते हैं उसे हम लोग पर्सनल लोन कहते हैं करते हैं। इसके अंतर्गत बैंक आपको बिना किसी सुरक्षा के लोन की राशि आपको प्रदान करता है।

विशेष तौर पर पर्सनल लोन स्कूल स्वास्थ्य शादी घर की मरम्मत जैसी चीजों के लिए लोगों के द्वारा अधिकांश किया जाता है और कई लोग बाहर घूमने के लिए जाना चाहते हैं उनके पास पैसे नहीं है तो ऐसी स्थिति में पर्सनल लोन लेकर  घूमने के लिए बाहर जाते हैं।

इसे भी पढ़िए : मोबाइल से लोन लेने का ऐप डाउनलोड करें

शिक्षा लोन

जैसा कि आप लोग जानते हैं कि कई ऐसे छात्र हैं जो पढ़ाई में काफी तेज है लेकिन के पास पैसे नहीं है कि उसे चालू करने के लिए विदेशिया भारत के किसी भी बड़े शैक्षणिक संस्थान में एडमिशन करवा सके क्योंकि वहां पर पैसे अधिक लगते हैं ऐसे में कई छात्र बैंक से शिक्षा लोन लेते हैं।

शिक्षा लोन भी एक प्रकार का Unsecured loan  के अंतर्गत आता है और इस प्रकार के लोन में अगर छात्र लोन की राशि चुकाने में असमर्थ है तो बैंक कुछ भी नहीं कर सकता है लेकिन लोन लेने वाले व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर  पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। अभी भविष्य उसे कभी भी लोन नहीं मिलेगा।

वाहन लोन

हर एक व्यक्ति का सपना होता है कि उसके पास भाई क्या गाड़ी हो और ऐसे में कई लोग बैंक से वाहन लोन लेकर गाड़ी खरीदते हैं। इस प्रकार के लोन में अगर कोई व्यक्ति लोन नहीं छुपाता है तो बैंक उसके गाड़ी को जब कर लेता है।

अलग यहां पर बैंक के पास पैसे वसूल करने के साथ में होते हैं फिर भी इस प्रकार के लोन में कई बार देखा गया है कि लोग अच्छा खासा पैसा गाड़ी खेलने के लिए तो हैं और जगह पैसा नहीं चुका पाते हैं तो बैंक गाड़ी को जप्त कर लेता है लेकिन इससे बैंक उस पैसे को वसूली कर सकता है जो उसने कस्टमर को दिया हैं।

इसे भी पढ़िए : आधार कार्ड से लोन लेने के लिए कौन सा ऐप है

सुरक्षित बैंक लोन

सुरक्षित बैंक लोन यानी Secured loan  कहा जाता है इस प्रकार के लोन में अगर कोई भी व्यक्ति बैंक से लोन लेने के जाता है तो उसे बैंक गारंटी  कोलैटरल की मांग करता है ताकि अगर कोई भी व्यक्ति है बैंक का लोन आ चुका है तो बैंक उसे बेच कर अपने पैसे वसूल कर सके।

आमतौर पर अगर आप इस बात को ऐसे समझ सकते हैं कि अगर आप बैंक में प्रॉपर्टी लोन लेने के लिए जा रहे हैं तो आपको अपने प्रॉपर्टी के डॉक्यूमेंट बैंक में जमा करने होंगे।

ऐसे सिटी में अगर कोई व्यक्ति लोन नहीं छुपाता है तो बैंक उसके प्रॉपर्टी को भेजकर अपने पैसे वसूल कर लेगा अब आपको समझ में आ गया होगा कि सुरक्षित लोन क्या होता है। हालांकि इसकी ब्याज दर असुरक्षित लोन के मुकाबले कम होती है।

लेकिन इस प्रकार के लोन को लेने के लिए आपको सिक्योरिटी डिपाजिट करनी पड़ेगी तभी जाकर आपको लोन बैंक देगा सुरक्षित लोन चार प्रकार के होते हैं जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं आइए जानते हैं।

इसे भी पढ़िए : 10th 12th मार्कशीट से लोन कैसे ले

गृह लोन

कोई व्यक्ति अगर अपना खुद का घर खरीदना या उसे बनाना चाहता है तो उसे बैंक से होम लोन लेना होगा होम लोन की प्रक्रिया में बैंक आपको लोन देगा लेकिन साथ में आप जहां से भी घर खरीद रहे हैं उसके आवश्यक डॉक्यूमेंट अपने पास जमा रखेगा।

जब आप होम लोन की पूरी राशि चुका देंगे तो डॉक्यूमेंट आपको बैंक वापस कर देगा और अगर आप लोग नहीं छुपाते हैं तो आपके घर को बैंक की तरफ से जल्द कर दिया जाएगा और बैंकों से भेज कर अपने पैसे वसूल करेगा।

प्रॉपर्टी लोन

अगर आपके पास प्रॉपर्टी है और आपको पैसे की जरूरत है तो आप बैंक से प्रॉपर्टी लोन ले सकते हैं। इस प्रक्रिया में आपको अपने प्रॉपर्टी के डॉक्यूमेंट बैंक में जमा करने होंगे फिर बैंक आप की प्रॉपर्टी की जो कीमत होगी उसके अनुसार आपको लोन देगा यदि बैंक के द्वारा आपने जो लोन लिया है उसे आप चुकाने में असमर्थ है तो बैंक आपके प्रॉपर्टी को बेचकर अपना पैसा वसूल करेगा।

इसे भी पढ़िए : सिविल स्कोर चेक करने वाला ऐप डाउनलोड करें

#2. सेक्युरिटीज़ पर लोन (Secured Loan)

यदि आपके पास शेयर म्युचुअल फंड या बॉन्ड संबंधित डॉक्यूमेंट है तो आप उसे बैंक में रखकर बैंक से लोन ले सकते हैं। इस प्रकार के लोन को हम लोग सिक्योरिटीज लोन कहते हैं और इस प्रकार के लोन की राशि अगर कोई व्यक्ति नहीं छुपाता है।

तो बैंक उसके म्युचुअल फंड शेयर को बेचकर अपने पैसे वसूल करता है क्योंकि आप लोगों को मालूम है कि शेयर के दाम शेयर मार्केट में तेजी के साथ ऊपर और नीचे जाते हैं बैंक के पास इन्हें बेचने के कई विकल्प मौजूद होते हैं।

गोल्ड लोन

गोल्ड लोन का मतलब होता है कि आप बैंक में अपने सोना जमा करेंगे और बैंक आपकी सोने की जो भी कीमत होगी उसके अनुसार आपको लोन देगा और अगर आप गोल्ड लोन चुकाने में असमर्थ है तो बैंक आपके सोने को बेच कर पैसा वसूल कर लेगा इस प्रकार लोन आपको बैंक तभी देगा जब आपके पास सोने होंगे।

इसे भी पढ़िए : किसान क्रेडिट कार्ड से लोन कैसे प्राप्त करें

म्युचुअल फंड और शेयरों पर लोन

म्यूच्यूअल फंड और शेयर भी बैंक आपको लोन देगा इसके लिए आपको म्यूच्यूअल फंड और शेयर संबंधित जो भी आवश्यक डॉक्यूमेंट है। बैंक में जाकर आपको जमा करने होंगे फिर बैंक के अधिकारी आपकी म्युचुअल फंड और शेयर की वर्तमान कीमत है उसका आकलन करेंगे उसके आधार पर आपको यहां पर लोन दिया जाएंगे।

फिक्स्ड डिपॉजिट लोन

आप लोगों को मालूम है कि आज के समय बैंक में कई प्रकार के फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम चलाई जाती हैं। हालांकि हम आपको बता दें कि बैंक आपको फिक्स डिपॉजिट लोन भी देता है हालांकि इस प्रकार के लोन ऐसे लोगों को भी जाते हैं।

जिन्होंने बैंक के फिक्स्ड डिपॉजिट में पैसे निवेश किए हैं और यहां पर लोन की राशि आपको 70% से लेकर 90% के बीच दी जाएगी यानि कहने का मतलब है कि आपने जो फिक्स डिपाजिट किया था।

उसमें जो पैसे आपको निश्चित अवधि के बाद मिलने वाले थे उन पैसों का प्रतिशत आपको यहां पर दिया जाएगा जिससे आप अपनी जरूरत के मुताबिक चुका सकते हैं।

Conclusion

अब तो आप समझ गए होंगे कि लोन कितने प्रकार के होते हैं? इसके बारें में काफी अच्छी तरह से बताया गया है ताकि आप अच्छी तरह से समझ सकें।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे सोशल मीडिया पर जरुर Share करे।

Related Posts :-

WhatsApp Group Join Now
Sharing Is Caring:

Leave a Comment