Guarantee Aur Warranty Me Antar | गारंटी और वारंटी में क्या अंतर है?

Guarantee Aur Warranty Me Antar

दोस्तो आज के आर्टीकल में हम जानेगे की गारंटी और वारंटी में क्या अंतर है? हमारे रोज काम आने वाले ऐसे शब्द जिसका मतलब तो सभी लोगो को पता होता है लेकिन वास्तविक रूप से ये समझ मे नही आते है कि इन शब्दो के बीच का क्या फर्क होता है। जब भी हम किसी इलेक्ट्रॉनिक दुकान पर जाते है तो कोई भी समान खरीदते वक्त अपने शायद ध्यान नही दिया होगा।

उस समान पर गारंटी ओर वारंटी दो अलग-अलग चीज होती है अगर हम किसी दुकान पर जाते है और वहां से ऐसे समान लेते है जिसपर गारंटी या वारंटी होती है और उसको हम समझ नही पाते है जिसकी वजह से हमे नुकसान उठाना पड़ता है। अगर आपको भी नही पता है की गारंटी ओर वारंटी क्या होता है तो आगे पढ़ते चलिए आपको सभी जानकारी मिल जाएगा।

आज के इस पोस्ट में आपको बताएंगे कि गारंटी और वारंटी में क्या अंतर है? या इसके बीच का क्या मतलब होता है दुकनदार या कंपनी आपके समान को बदलने से इनकार कर दे तो आप क्या करेंगे। आज का पोस्ट में हम इन्ही के ऊपर बात करने वाले है।

गारंटी और वारंटी क्या होता है?

अगर आप कोई बाजार से सामान लाते है और समान गारंटी या वारंटी में नही है तो वह समान अगर 1 हप्ते के अंदर ही खराब हो जाये है तो आप उसे वापस या कंप्लेन नही कर सकते है। वही अगर उस समान में गारंटी या वारंटी है तो आपके प्रोडक्ट को चेंज या रिपैर किया जा सकता है।

गारंटी और वारंटी किसी समान पर लगने वाला कंपनी द्वारा शर्त होता है कि यह समान इतने दिन के भीतर खराब नही होगा लेकिन अगर खराब हो जाता है तो कंपनी ग्राहक को फ्री में रिपैर करेगी या फिर उसे बदलकर उसी तरह का नया प्रोडक्ट देगी इसके बारे में और अच्छी तरह से समझते है।

गारंटी का मतलब क्या होता है?

गारंटी का मतलब ये होता है कि अगर उस समान में किसी भी प्रकार की खराबी होती है तो उसके जगह पर नया समान जैसे कि आप किसी मोबाइल फ़ोन खरीदते है तो मोबाइल फोन खरीदते वक्त अगर आपको 1 साल की गारंटी मिलती है तो आपका फ़ोन अगर 1 साल के अंदर खराब हुआ तो उसे बनाया नही जाएगा।

उसके जगह पर उसी कंपनी का नया फोन दिया जाएगा ओर इसका आपसे एक भी रुपया नही लिया जाएगा यानी आपको फ्री में ये सुविधा दिया जाएगा गारंटी का मतलब यही होता है।

इसे भी पढ़े – 

वारंटी का मतलब क्या होता है?

वारंटी का मतलब यही होता है कि अगर उस समान में कुछ खराबी हुआ तो उसे मरम्मत (Repair) करके दिया जाता है। जैसा कि अगर आप किसी दुकान से एक मोबाइल फोन खरीदते है और उसमें दुकानदार की और से 1 साल की वारंटी मिलती है तो इसका मतलब होता कि अगर आपका मोबाइल फोन 1 साल के अंदर खराब होता है।

तो उसका मरम्मत (Repair) करके दिया जाता है और इसमें आपके मोबाइल में जो भी चीज खराब हुआ है उसका पैसा लिया जाता है। लेकिन जो कारीगर या इंजीनियर जो उस फोन को बनाता है वो अपना पैसा नही लेता है। केवल जो आपके मोबाइल में खराब हुआ है उसके जगह पर कोई नया समान लगाया जाता है उसका पैसा लगता है।

गारंटी और वारंटी में क्या अंतर होता है?

यदि कोई दुकानदार या कंपनी अपने ग्राहक को कुछ सुविधाएं देता है ऐसे समान जो कंपनी द्वारा उस समान को कुछ ज्यादा दिन तक चलने के लिए भरोसा दिया जाता है कि अगर ये समान खराब हुआ तो हम इसको पुनः फ्री में बना कर देंगे या उसे नया बदलकर देंगे। आइये जानते है कि गारंटी और वारंटी में फर्क क्या है।

  • गारंटी में खरीदी हुई प्रोडक्ट अगर खराब हो जाता है तो उस समान को बदलकर कर दूसरा नया समान दिया जाता है। वही दूसरी ओर अगर आपके प्रोडक्ट पर वारंटी दिया गया है और वह प्रोडक्ट खराब हो जाता है तो उसी प्रोडक्ट को फ्री में रिपेयर किया जाता है।
  • गारंटी के समय पीरियड कम होता है जबकि वारंटी का समय पीरियड ज्यादा होता है।
  • वारंटी लगभग सभी इलेक्ट्रॉनिक प्रोडूक्टस पर देखने को मिल जाती है पर गारंटी कुछ ही इलेक्ट्रॉनिक प्रोडूक्टस पर देखने को मिलती है।
  • वारंटी का फैसिलिटी कुछ और पैसे देकर बढ़वाया जा सकता है। वही गारंटी में ऐसा नही होता है इसका समय सिम निश्चित होता है।

ये रहे कुछ गारंटी और वारंटी में अन्तर इसके अलावा और भी गारंटी और वारंटी में अंतर हो सकते है। आपको बता दे कि वारंटी से बेहतर गारंटी को माना जाता है क्योंकि इसमें Replacement होता है।

गारंटी या वारंटी अगर दुकानदार नही दे तो क्या करेंगे?

अगर अपने किसी दुकान से 20,000 रुपया का मोबाइल फ़ोन खरीदा ओर उस फोन की गारंटी की 1 साल और वो फोन 1 साल से पहले खराब हो गया और उस मोबाइल को लेकर दुकानदार के जाते है और दुकानदार उस फोन को बदल नही रहा है तो आप क्या करंगे इसके लिए कानून है Consumar Protection Act आपको यह हक देता है।

कि आप Consumar कोट में जाईये ओर आप अपनी शिकायत दर्ज कर सकते है निश्चित रूप से उसे अपने किये हुए वादे को पूरा करना होगा चाहे वो गारंटी को लेकर के हो या वारंटी को लेकर हो यदि कोई कंपनी या दुकान ऐसा काम करे Consumar Protection Act की सहायता ले सकते है जो हर जिले में होती है।

आपको ये भी जानना जरूरी है कि समान खरीदते वक्त आपको जो गारंटी या वारंटी वाला रसीद मिलती ही उसे संभाल कर रखना चाहिए क्योंकि वो आपका सबूत है।

FAQ

Q : Guarantee Meaning in Hindi

Ans : गारंटी का मतलब होता है अगर आप किसी सामान को खरीदते है और दुकानदार उस सामान पर एक साल या दो साल का गारंटी देता है अगर इस समय प्रियेड में अगर सामान ख़राब हो जाता है तो दुकानदार आपको उस सामान के बदले नया सामान देगा।

Q : क्या वारंटी में सामान बदल के दिया जा सकता है?

Ans : नहीं, अगर किसी सामान की खरीदारी पर आपको वारंटी दी जाती है तो आपको केवल सामान को रिपेयर करके दिया जायेगा।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment