Intrinsic Value Meaning in Hindi | इन्ट्रिंसिक वैल्यू क्या है? कैसे निकालते हैं पूरी जानकारी

Intrinsic Value Meaning in Hindi : आज इस पोस्ट में आपको Intrinsic Value क्या होता है इसके बारे में जानकारी देंगे अगर आप शेयर मार्केट में नये हैं। Intrinsic Value के बारे में जरूर सुना होगा। ऐसे शब्दों का इस्तेमाल शेयर मार्केट में अधिक होता है अधिकांश शेयर मार्केट में लोग share को तभी खरीदने हैं।

WhatsApp Group Join Now

जब उसकी कीमत उसकी intrinsic value के नीचे आती है ताकि आप अच्छा खासा प्रॉफिट Share से Earn  कर सके। अब आप लोगों के मन में सवाल आएगा कि आखिर में Intrinsic Value Meaning in Hindi होता क्या है और शेयर मार्केट में इसका क्या महत्व है इसके द्वारा आप किस प्रकार किसी share कम कीमत में  खरीद सकते हैं अगर पूरी जानकारी चाहते हैं तो आर्टिकल पर बने रहे।

Intrinsic Value Meaning in Hindi

Intrinsic Value क्या होता है?

Intrinsic value का मतलब  हिंदी में आंतरिक मूल्य होता है इसे हम लोग वास्तविक मूल के रूप में जानते हैं जब आप किसी शेर को उसके एक्चुअल प्राइस पर खरीदेंगे तो उसे हम लोग intrinsic value या आंतरिक मूल्य कहते हैं।

स्टॉक मार्केट में हमेशा किसी शेर को खरीदने के लिए उसे शेयर की इंट्रिन्सिक वैल्यू पता कर लेनी चाहिए तभी आप उस शेयर से future में अच्छा प्रॉफिट या रिटर्न कमा सके।

Intrinsic Value Meaning in Hindi

Intrinsic Value Meaning in Hindi हिंदी में क्या होता है इसे आप अलग-अलग परिभाषा से समझ सकते हैं जिसका विवरण हम नीचे दे रहे हैं।

  • Intrinsic value का अर्थ है शेयर की असली कीमत, वास्तविक कीमत, True value या Fair value  होता है इसके माध्यम से आप सही कीमत पर share को कम पैसे में खरीद कर उसे अधिक पैसे में बेचकर मुनाफा कमा सकते  हैं।
  • दुनिया के सबसे अमीर शेयर मार्केट इन्वेस्टर Warren Buffett  का नाम आप लोगों ने सुना होगा उनके द्वारा भी शेयर मार्केट में किसी share को  intrinsic value  के आधार पर खरीदने हैं क्योंकि वह खुद भी Value Investing करते हैं जिसका मतलब हिंदी में बहुत ही आसन होता है इसमें कम पैसे में आप share को खरीदेंगे और उसे अधिक दिनों तक hold में रखकर अधिक कीमत में बेचकर मुनाफा कमा लेंगे।

Intrinsic Value  के फायदे क्या है?

यदि आपने शेयर मार्केट में पैसे निवेश करना शुरू किया है तो आपको सबसे पहले  आपको Intrinsic value के बारे में जानकारी होना आवश्यक है तभी जाकर आप शेयर मार्केट से अधिक मुनाफा कमा पाएंगे।

इस तकनीक का इस्तेमाल बड़े-बड़े शेयर मार्केट के इन्वेस्टर करते हैं तभी तो आज के समय में वहां अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं।  हालांकि  शेयर करने से पहले फंडामेंटल रिसर्च जरूर करें।

Intrinsic Value के हिसाब से किसी स्टॉक का मूल्यांकन करना सही है?

हम आपको बता दे कि आप इसके माध्यम से किसी भी स्टॉक का सही मूल्यांकन नहीं कर सकते हैं इसके लिए आपको मार्केट रिसर्च करनी होगी तभी जाकर आप किसी share का सही मूल्यांकन कर सकते हैं कि वह किस गति से शेयर मार्केट में ऊपर की तरफ जाएगा।

दरअसल शेयर मार्केट में कुछ कंपनियां निवेशकों को भरम जाल में फंसा कर रखती हैं वह दिखती हैं कि वह प्रॉफिट कर रही है लेकिन दरअसल कंपनी नुकसान में चलती है ऐसे में शेयर मार्केट में आपको फंडामेंटल रिसर्च और टेक्निकल तकनीक के बारे में व्यापक जानकारी होनी चाहिए।

तभी जाकर आप किसी कंपनी के बारे में सही आकलन कर पाएंगे इसलिए आप कभी भी Intrinsic Value के  के भरोसे ना बैठ नहीं तो आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता हैं।

Intrinsic Value का महत्व क्या है?

अंडरवैल्यूड स्टॉक्स की पहचान करना:

आप इसके माध्यम से किसी भी स्टॉक की अंदर वैल्यू कीमत आप जान सकते हैं क्योंकि इसके माध्यम से आपको स्टॉक की वास्तविक कीमत क्या है उसके बारे में जानकारी मिलती है ताकि आप कम पैसे में स्टॉक खरीद कर उसे अधिक पैसे में बेचकर मुनाफा कमा सके दुनिया बड़े-बड़े निवेशक इस तकनीक के माध्यम से ही शेयर मार्केट से मुनाफा कमाते  हैं।

निवेश जोखिम को कम करना: इसके माध्यम से आप जोखिम की संभावना को कम कर सकते हैं क्योंकि जब आप किसी स्टॉक के वास्तविक मूल्य को समझ जाते हैं तो आप इस प्रकार के स्टॉक को कम पैसे में खरीदेंगे जिससे आप अधिक पैसे का भुगतान करने से बच जाएंगे और जोखिम कम रहता है।

सूचित निवेश निर्णय लेना:

आंतरिक मूल्य प्रवेश करने वाले व्यक्तियों को स्टॉक का मूल्यांकन करने की सटीक जानकारी और तरीका प्रदान करता है इससे आप सूचित निवेश करने का फैसला ले सकते हैं ताकि आपको नुकसान  ना हो।

दीर्घकालिक परिप्रेक्ष्य:

लॉन्ग टर्म के लिए अगर आप पैसे निवेश करना चाहते हैं तो आंतरिक मूल्य की गणना कर सकते हैं इससे आपको सही कंपनी को पहचानने में मदद मिलेगी और साथ में आप अपना पैसा ऐसी कंपनी में निवेश कर पाएंगे जो आने वाले भविष्य में आपको मुनाफा कमा कर देगी इसलिए लॉन्ग टर्म निवेश के संबंध में आंतरिक मूल्य की भूमिका अहम होती है।

Intrinsic Value Calculate कैसे करें

किसी भी Share Intrinsic Value कैलकुलेट कैसे करते हैं तो हम आपको निम्नलिखित प्रकार के तरीके बताएंगे जिसके माध्यम से आप शेर का आंतरिक या वास्तविक मूल आसानी से कैलकुलेट कर सकते हैं।

Discount Cash Flow Method

डिस्काउंट कैश फ्लो के माध्यम से आप share का आंतरिक या वास्तविक मूल आसानी से पता कर सकते हैं उसकी प्रक्रिया का विवरण नीचे दे रहा है।

  • जिस कंपनी के शेयर में आप इन्वेस्ट करना चाहते हैं उसके सभी फ्यूचर कैश फ्लो को आपको सबसे पहले एक कैलकुलेट करना होगा।
  • अब आपके यहां पर उसे कंपनी का कैश फ्लो निकालना है इसके लिए वर्तमान वैल्यू सबसे पहले निकालनी होगी।
  • इसके बाद आपको वर्तमान वैल्यू वर्ष के अनुसार निकालना है और उन सबको एक साथ जोड़ दीजिएगा इससे आपको stock की इन्ट्रिंसिक वैल्यू मिल जाएगी।

डिस्काउंट कैश फ्लो मेथड से स्टॉक की इन्ट्रिंसिक वैल्यू निकालने का फार्मूला:

Intrinsic value = (CF1)/(1 + r)1 + (CF2)/(1 + r)2 + (CF3)/(1 + r)3 + … + (CFn)/(1 + r)n

CF1– पहले वर्ष का कैश फ्लो हैं। CF2 – यह दूसरे वर्ष का कैश फ्लो हैं  उसके बाद जाकर हम जारी रहेगा जैसा कि हमने आपको फार्मूला में देता है।

r = करंट मार्केट कंडीशन के अनुसार रेट ऑफ़ रिटर्न

n = वर्षों की संख्या

Financial Metric

फाइनेंशियल मैट्रिक मेथड के द्वारा भी  share आंतरिक की वास्तविक मूल के बारे में जान सकते हैं   इसके लिए आपको विशेष प्रकार के फार्मूला का इस्तेमाल करना होगा जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं।

Intrinsic value = Earnings per share (EPS) x (1 + r) x P/E ratio

” r कंपनी की अनुमानित ग्रोथ को दर्शाता हैं।  इस बात को मैं उदाहरण के साथ आपको बताता हूं मान लीजिए कि आज के समय आपके पास अब लिमिटेड के कंपनी है जिसने पिछले वर्ष ₹100 प्रत्येक शेयर कमाया था।

अब आप अगर इस कंपनी की अगले 5 साल  12.5% से ग्रो करने सफल हो जाती है तो और मान लीजिए की कंपनी वर्तमान में ₹40 केPE रेश्यो पर ट्रेड कर रहा हैं।  अब ऊपर दिए गए डाटा के मुताबिक आप इस कंपनी का वास्तविक आंतरिक मूल्य कैसे निकाल पाएंगे तो नीचे हम बता रहे हैं।

Intrinsic value = (₹100 per share) x (1 + 0.125) x 40 = ₹4500 per share कंपनी का आंतरिक मूल होता है

ऐसे में वर्तमान में कंपनी की आंतरिक मूल्य ₹4500 पर ट्रेड कर रही है तो माना जाएगा की कंपनी ओवरलोडेड है  और उससे नीचे पर ट्रेड कर रही है तो कंपनी undervalued ऐसे मैं आपको कंपनी के share तुरंत खरीदने चाहिए क्योंकि आपको कम पैसे यहां पर भुगतान करने होंगे और बाद में आप इस कंपनी के शेर को अधिक दाम में बेचकर मुनाफा कमा सकते  हैं।

Asset-Based Valuation

ऊपर बताए गए दोनों मेथड अगर आपको कठिन लगते हैं तो हम आपको आसान मेथड बता रहे हैं  Asset Based वैल्यूएशन इसके माध्यम से आप किसी भी शेर का आंतरिक या वास्तविक मूल्य काफी कम समय में पता कर सकते हैं इसके लिए विशेष प्रकार के फार्मूले का आपको इस्तेमाल करना होगा।

Intrinsic value = (Sum of a company’s assets, both tangible and intangible) – (Sum of a company’s liabilities) सबसे पहले कंपनी की कुल कितनी संपत्ति है उसका विवरण यहां पर डालना है और उसके बाद कंपनी में लायबिलिटी कितनी है  दोनों को आपस में आपको MiNuS ( – ) है उसके बाद जो डाटा आपके पास आएगा वही कंपनी की आंतरिक  मूल होगी। 

डिविडेंड डिस्काउंट मेथड

आप किसी भी share का आंतरिक या वास्तविक मूल्य डिविडेंड डिस्काउंट मेथड से निकाल सकते हैं इसके लिए  कंपनी के अनुमानित डिविडेंड को डिस्काउंट करके आंतरिक मूल्य निकाला जाता हैं।  इसके लिए आप निम्नलिखित फार्मूला का इस्तेमाल कर सकते हैं

Intrinsic Value = EDPS / (CCE -DGR)

Conclusion :-

आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको स्टॉक मार्केट पर बनी 8 बेस्ट फिल्मे के बारे में बताया गया है अगर आपको हमारा आज कहीं आर्टिकल पसंद आया है, इसे अपने व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर करना है, ताकि आपके दोस्तों को भी Share Market Movies in Hindi के बारे में पता चल सके।

Related Articles :-

Sharing Is Caring:

Leave a Comment